HAM VAH HASTEE HAI BE_VAJOOD – Romana Shayari

हम वह हस्ती है बे_वजूद
दिल-इ-देहलीज़ से निकाले गये
भेजोगे लाख तुम सलाम-इ-इश्क़
फुरक़त-इ-गम हमारा अज़ल-इ-अलविदा है

HAM VAH HASTEE HAI BE_VAJOOD
DIL-I-DEHALEEZ SE NIKAALE GAYE
BHEJOGE LAAKH TUM SALAAM-I-ISHQ
PHURAQAT-I-GAM HAMAARA AZAL-I-ALAVIDA HAI

बचपन की ईद भी क्या सुहानी होती थी,
नए कपड़ो की खुशी होती थी,
अब न ख़ुशी न ग़म होता है,
और एक नयी ईद लम्हो में पुरानी होती है

BACHAPAN KEE EED BHEE KYA SUHAANEE HOTEE THEE,
NAE KAPADO KEE KHUSHEE HOTEE THEE,
AB NA KHUSHEE NA GAM HOTA HAI,
AUR EK NAYEE EED LAMHO MEIN PURAANEE HOTEE HAI

एह चाँद उनको मेरा पोगाम कहना,
खुशी का दिन और हंसी की रात कहना,

जब वो देखें बाहर आके,

उनको प्यार से,
मुबारक हो रमजान कहना

EH CHAAND UNAKO MERA POGAAM KAHANA,
KHUSHEE KA DIN AUR HANSEE KEE RAAT KAHANA,

JAB VO DEKHEN BAAHAR AAKE,

UNAKO PYAAR SE,
MUBAARAK HO RAMAJAAN KAHANA

तिश्नगी में जहर पिलाता है कोई,
जीने का तरीका सिखाता है कोई,
यूँ न दिखाओ मुझे ा’इन दोस्तों,
आ’ीने में धुंधला सा नज़र आता है कोई

TISHNAGEE MEIN JAHAR PILAATA HAI KOEE,
JEENE KA TAREEKA SIKHAATA HAI KOEE,
YOON NA DIKHAO MUJHE AA’IN DOSTON,
AA’EENE MEIN DHUNDHALA SA NAZAR AATA HAI KOEE

मै खुश हूँ अपनी तस्सवुरर की ज़िन्दगी में,
पसंद नहीं मुझको हक़ीक़तों की कहानियाँ

MAI KHUSH HOON APANEE TASSAVURAR KEE ZINDAGEE MEIN,
PASAND NAHIN MUJHAKO HAQEEQATON KEE KAHAANIYAAN

वह तुझ से मिल के,
हशर में पूरी न हो कहीं,
थोड़ी सी है,
जो कामी हमारे गुनाह में.

VAH TUJH SE MIL KE,
HASHAR MEIN POOREE NA HO KAHEEN,
THODEE SEE HAI,
JO KAAMEE HAMAARE GUNAAH MEIN.

उनको हारत है की ासिक क्यों कर,
हम पे मर मर के जिए जाते हैं

UNAKO HAARAT HAI KEE AASIK KYON KAR,
HAM PE MAR MAR KE JIE JAATE HAIN

22 thoughts on “HAM VAH HASTEE HAI BE_VAJOOD – Romana Shayari”

  1. Pingback: TASAVUR TERA JO MUJHE CHHOO NA SAKA - Romana Shayari

  2. आपने इस आर्टिकल को अच्छी तरह लिखा ह, मेरी नयी पोस्ट को भी पढ़ें और मुझे बताएं कि आपको कैसा लगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *