Kab Nahin Naaz Uthaye Hain Tumhare Mai Ne

Kab-Nahin-Naaz-Uthaye-Hain-Tumhare-Mai-Ne
Dekho-Aanchal-Pe-Sajaye-Hain-Sitare-Mai-Ne

कब नहिं नाज उथाये हैं तुम्हार माई ने
देखो आँचल पे सजाये हैं सितारे माई ने

Pyar-Ke-Patto-Se-Bhari-Kitaab-Ho-Tum
Rishton-Ke-Phoolon-Mein-Gulab-Ho-Tum,
Kuch-Log-Kehte-Hain-Pyar-Sacha-Nahi-Hota
Un-Logon-Ke-Har-Sawal-Ka-Jawab-Ho-Tum

प्‍यार के पटो से भारी किताब हो तुम
रिश्टन के फूल में गुलाब हो तुम,
कुच लोग केहते हैं प्यार सच्चा नहीं होता
उन लोगन के हर सांवल के जवब हो तुम

Labon– Pe- Hont- Rakh- Kar- Kaha- Uss- Zalim- Ne,
Kya- Shikayat- Kya- Gila- Hai- Ab- Bolte- Kyun- Nahi

लबों पे मत रक्ख कर काहे हमें ज़ालिम ने,
क्या शिवाय का गीत है अब बोल क्यूं नहीं

Hath- Rakh- Ke- Woh- Mere- Dil- Pe- Farmane- Lage- Zaid,
Dard- Kahan- Hota- Hai?- Kab- Hota- Hai?- Ab- Ho- Raha- Hai?

हाथ राखे के वो मेरे दिल पे फरमान लगे ज़ैद,
दरद कहन होत है? काबा हो गया? अब हो राहा है?

Ungliyan- Phair- Mere- Baalon- Mein,
Yeh- Mera- Dard- e- Sar- Nahi- Jaata

उनगलियन फेयर मेरे बालोन में,
ये मेरा डार ए सर नहीं जाटा

Tum _Jo_ Choo_ Lo_ Toh_ dard_ Ghat_ Jaye,
Aao_ ! Mere_ Tabib_ Ho_ Jao !!

तुम जो चू लो तोहड़ घाट जय,
आओ! मेरे तबीब हो जाओ !!

Saans_ Lene_ Se_ Saans_ Dene_ Tak,
Jitne_ Lamhe_ Hain_ Sab_ Tumhare_ Hain

सास लेने से सास दीन तक,
जितने लम्हे हैं सब तुमरे हैं

तुम दुर हो कर भी इते अचे लगति हो,
ना जाने पासे तोते कितेन अचे लगटे

Tum_ Dur_ Ho_ Kar_ Bhi_ Itne_ Ache_ Lagti_ Ho,
Na_ Jaane_ Paas_ Hote_ Toh_ Kitne_ Ache_ Lagte

2 thoughts on “Kab Nahin Naaz Uthaye Hain Tumhare Mai Ne”

  1. Pingback: Mere Pass Tum Ho OST Lyrics –Humayun Saeed, Ayeza Khan, Hira Mani Rahat Fateh Ali Khan - Romana Shayari

  2. Pingback: Shayari- Love Shayari- Sad Shayari - Romana Shayari

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *