Shayari-Iss Lafze-Mohabbat Ka Itna Sa Fasaana Hai,

दर्द हैं दिल में पर इसका ऐहसास नहीं होता,
रोता हैं दिल जब वो पास नहीं होता,
बरबाद हो गए हम उनकी मोहब्बत में,
और वो कहते हैं कि इस तरह प्यार नहीं होता!

Dard hain dil mein par iska ehsaas nahin hota,

Rota hain dil jab vo paas nahin hota,

Barbaad ho gae ham unkee mohabbat mein,

Aur vo kehte hain ki is tarah pyaar nahin hota!
अब छोड़ दिया है “इश्क़” का “स्कूल” हमने भी
हमसे अब “मोहब्बत” की “फीस” अदा नही होती !
Ab chhod diya hai “ishq” ka “school” hamne bhee,
Humse ab “mohabbat” kee “fees” adaa nahee hotee !

किसी को तुम दिल से चाहो और वो तुम्हारी कदर ना करे तो,
ये उसकी बदनसीबी है तुम्हारी नही…..
Kisee ko tum dil se chaaho aur wo tumhari kadar na kare to,
Ye uskee badnaseebee hai tumhari nahi…..
Yakeen Apni Chahat Ka Itna Toh Hai Mujhe,
Meri Aankhon Mein Dekhoge Aur Laut Aaoge,
Meri Yaadon Ke Samandar Mein Jo Doob Gaye Tum,
Kahin Jana Bhi Chahoge Toh Ja Nahi Paaoge.
यकीन अपनी चाहत का इतना है मुझे,
मेरी आँखों में देखोगे और लौट आओगे,
मेरी यादों के समंदर में जो डूब गए तुम,
कहीं जाना भी चाहोगे तो जा नहीं पाओगे।
Iss Lafze-Mohabbat Ka Itna Sa Fasaana Hai,
Simte To Dile-Aashiq Faile Toh Zamana Hai,
Yeh Ishq Nahi Aasaan Itna Toh Samajh Leeje,
Ek Aag Ka Dariya Hai Aur Doob Ke Jaana Hai.
इस लफ़्ज़े-मोहब्बत का इतना सा फसाना है,
सिमटे तो दिले-आशिक़ फैले तो ज़माना है,
ये इश्क़ नहीं आसाँ इतना तो समझ लीजे,
एक आग का दरिया है और डूब के जाना है।
Ijhaar-e-Mohabbat Pe Ajab Haal Hai Unka,
Aankhein Toh Raza-mand Hain Lab Soch Rahein Hain.
इजहार-ए-मोहब्बत पे अजब हाल है उनका,
आँखें तो रज़ामंद हैं लब सोच रहे हैं।
Dil Mein Na Ho Jurrat Toh Mohabbat Nahi Milti,
Khairaat Mein Itni Badi Daulat Nahi Milti.
दिल में ना हो जुर्रत तो मोहब्बत नहीं मिलती
खैरात में इतनी बड़ी दौलत नहीं मिलती।
Tumhari Ek Muskaan Se Sudhar Gayi Tabiyat Meri,
Batao Yaar Ishq Karte Ho Ya ilaaj Karte Ho.
तुम्हारी एक मुस्कान से सुधर गई तबियत मेरी,
बताओ यार इश्क करते हो या इलाज करते हो।
Dil Mein Aahat Si Hui Rooh Mein Dastak Goonji,
Kis Ki Khushboo Yeh Mujhe Mere SirHane Aayi.
दिल में आहट सी हुई रूह में दस्तक गूँजी,
किस की खुशबू ये मुझे मेरे सिरहाने आई।
Na Poore Mil Rahe Ho Na Hi Kho Rahe Ho Tum,
Din-Ba-Din Aur Bhi DilChasp Ho Rahe Ho Tum.
ना तो पूरे मिल रहे हो ना ही खो रहे हो तुम,
दिन-ब-दिन और भी दिलचस्प हो रहे हो तुम।
Kisi Se Pyar Karo Aur Tajurba Kar Lo,
Ye Aisa Rog Hai Jismein Dawa Nahi Lagti.
किसी से प्यार करो और तजुर्बा कर लो,
ये रोग ऐसा है जिसमें दवा नहीं लगती।
Kitaab Meri Panne Mere Aur Soch Bhi Meri,
Phir Maine Jo Likhe Woh Khayal Kyun Tere.
किताब मेरी, पन्ने मेरे और सोच भी मेरी,
फिर मैंने जो लिखे वो ख्याल क्यों तेरे।
Mujh Sa Koi Jahaan Mein Naadan Bhi Na Ho,
Kar Ke Jo Ishq Kehta Hai Nuksaan Bhi Na Ho.
मुझ सा कोई जहान में नादान भी न हो,
कर के जो इश्क कहता है नुकसान भी न हो।
Adaa Hai Khwaab Hai Takseem Hai Tamaasha Hai,
Meri Inn Aankhon Mein Ek Shakhs BeHatasha Hai.
अदा है ख्वाब है तकसीम है तमाशा है,
मेरी इन आँखों में एक शख्स बेतहाशा है।
Akele Hum Hi Shamil Nahi Iss Jurm Mein,
Najar Jab Mili Thi Muskuraye Tum Bhi The.
अकेले हम ही शामिल नहीं हैं इस जुर्म में,
नजर जब मिली थी मुस्कराये तुम भी थे।

1 thought on “Shayari-Iss Lafze-Mohabbat Ka Itna Sa Fasaana Hai,”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *