TASAVUR TERA JO MUJHE CHHOO NA SAKA

जिसे पीने का सलीका न था
उससे जाम दिया गया है
जिसे वफ़ा से फुर्सत न मिली
उसे ज़हर दिया गया है

JISE PEENE KA SALEEKA NA THA
USASE JAAM DIYA GAYA HAI
JISE VAFA SE PHURSAT NA MILEE
USE ZAHAR DIYA GAYA HAI

मिली हर क़दम पर रफक़त तुम्हारी
कहाँ हम कहाँ ये इनायत तुम्हारी
हमें चाहिए बस तालुक़ तुम्हारा
मोहब्बत मिले या अदावत तुम्हारी

MILEE HAR QADAM PAR RAPHAQAT TUMHAAREE
KAHAAN HAM KAHAAN YE INAAYAT TUMHAAREE
HAMEN CHAAHIE BAS TAALUQ TUMHAARA
MOHABBAT MILE YA ADAAVAT TUMHAAREE

मेरे मेहबूब को जिस दिन, जनाब देखोगे
होश उड़ जायेंगे जब बेनक़ाब देखोगे
नूर पर एक आफताब देखोगे
रात तो रात रही दिन में भी ख़्वाब देखोगे

MERE MEHABOOB KO JIS DIN, JANAAB DEKHOGE
HOSH UD JAAYENGE JAB BENAQAAB DEKHOGE
NOOR PAR EK AAPHATAAB DEKHOGE
RAAT TO RAAT RAHEE DIN MEIN BHEE KHVAAB DEKHOGE

तसवुर तेरा जो मुझे छू न सका
मेरी हर सांस तेरी ही खुशबु आये
ये किस मोड़ पर ले आयी है तेरी जुस्तुजू
पानी में अक्स मेरा है और नज़र तो आये

TASAVUR TERA JO MUJHE CHHOO NA SAKA
MEREE HAR SAANS TEREE HEE KHUSHABU AAYE
YE KIS MOD PAR LE AAYEE HAI TEREE JUSTUJOO
PAANEE MEIN AKS MERA HAI AUR NAZAR TO AAYE

सुकुट कुरब में उतरे तो याद कर लेना
कभी जो टूट के बिखरा तो याद कर लेना
माना के तुम गुफ्तुगू के माहिर हो
वफ़ा के लफ्ज़ पे ातको तो याद कर लेना

SUKUT KURAB MEIN UTARE TO YAAD KAR LENA
KABHEE JO TOOT KE BIKHARA TO YAAD KAR LENA
MAANA KE TUM GUPHTUGOO KE MAAHIR HO
VAFA KE LAPHZ PE AATAKO TO YAAD KAR LENA

ऐसे किसी रफ़ीक़ की दुनिआ मिसाल दे
मैं उससे दर्द मांगु तो वो दिल निकाल दे
रब जाने किसकी दुआ मेरे साथ है
में डूबना चहु भी तो दरिया उछाल दे

AISE KISEE RAFEEQ KEE DUNIA MISAAL DE
MAIN USASE DARD MAANGU TO VO DIL NIKAAL DE
RAB JAANE KISAKEE DUA MERE SAATH HAI
MEIN DOOBANA CHAHU BHEE TO DARIYA UCHHAAL DE

रुखसत हुई तो मेरी बात मान कर गयी
जो था उसके पास मुझे दान कर गयी
जुड़े कुछ ऐसी हुई के रूट ही बदल गयी
जैसे मेरे दिल को वीरान कर गयी

RUKHASAT HUEE TO MEREE BAAT MAAN KAR GAYEE
JO THA USAKE PAAS MUJHE DAAN KAR GAYEE
JUDE KUCHH AISEE HUEE KE ROOT HEE BADAL GAYEE
JAISE MERE DIL KO VEERAAN KAR GAYEE

3 thoughts on “TASAVUR TERA JO MUJHE CHHOO NA SAKA”

  1. Pingback: Jab Sey Uskey Husann Pe Padi Haii Nazar - Romana Shayari

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *